Friday, April 16, 2021
Home देश समाचार सेक्टरों में फ्लैट्स बनाने के विराेध में आए सेक्टरवासी: सरकार ने 4...

सेक्टरों में फ्लैट्स बनाने के विराेध में आए सेक्टरवासी: सरकार ने 4 से 5 मंजिल फ्लैट बनाने की मंजूरी देने का निर्णय लिया, सेक्टरवासी बोले- कोर्ट जाएंगे


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हिसार15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हरियाणा सरकार द्वारा सेक्टरों में फ्लैट बनाने की मंजूरी देने पर सेक्टरों में रहने वाले मकान मालिकों में काफी रोष है। पीएलए सेक्टर के प्रधान सतपाल ठाकुर ने बताया कि हरियाणा की भाजपा सरकार ने हरियाणा के जितने भी सेक्टर हैं उनमें चार से पांच मंजिल तक फ्लैट बनाने की अनुमति प्लाॅट धारकों को देने का निर्णय लिया है।

इसके बाद से हर सेक्टर में लोगों द्वारा फ्लैट बनाने की प्रक्रिया शुरू भी कर दी गई है। इतना ही नहीं कई सेक्टरों में तो लोगों द्वारा फ्लैट बनाकर लोगों को बेचने का भी काम शुरू कर दिया है।

सतपाल ठाकुर ने कहा कि जिस टाइम हरियाणा सरकार द्वारा किसी भी शहर में हरियाणा अर्बन डिवेलपमेंट अथॉरिटी यानी कि (हुडा) जमीन एक्वायर कर वहां सेक्टर काटने का काम करता था। सेक्टर में प्लाॅट लेने के लिए हुडा एक प्रोस्पेक्ट की प्रक्रिया यानी कि हर प्लाॅट लेने वाले नागरिक को एक फार्म भरना पड़ता था। उसके बाद में हुडा अथाेरिटी लॉटरी या पहले आओ पहले पाओ की प्रक्रिया पर प्लाॅट अलाॅट करता था।

पीएलए सेक्टर के प्रधान ने कहा कि रूल एंड रेगुलेशन के हिसाब से देखा जाए ताे हरियाणा के किसी भी सेक्टर में फ्लैट नहीं बना सकते। परंतु अभी सभी रूल एंड रेगुलेशन्स को तोड़कर सभी सेक्टरों में चार से पांच मंजिला फ्लैट बनाने की अनुमति देने का निर्णय ले लिया है।

उन्हाेंने कहा कि सरकार का यह ऐलान मुसीबत काे न्याेता है। उन्हाेंने कहा कि जिस मकान के आगे पीछे और दाेनाें साइड फ्लैट बन जाएंगे तो उनको हवा, धूप व पानी से वंचित रहना पड़ेगा। उन्हाेंने कहा कि सरकार ने सभी सेक्टरों में फ्लैट बनाने की जो अनुमति खाली पड़े प्लाॅट धारकों को देने का निर्णय लिया है इसको तुरंत प्रभाव से वापिस ले। अन्यथा सभी सेक्टर वासी मिलकर हरियाणा सरकार के इस फैसले के विरोध में कोर्ट पहुंचेंगे।

खबरें और भी हैं…



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments