Thursday, April 15, 2021
Home देश समाचार पूर्व विधायक की CM से मांग: पंचायतों में हो रहे घोटालों की...

पूर्व विधायक की CM से मांग: पंचायतों में हो रहे घोटालों की SIT से जांच कराई जाए, तभी होंगे सफेदपोशों के नाम उजागर


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फरीदाबाद6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

पूर्व विधायक ने सीएम से मांग की है कि इन घोटालों की जांच के लिए स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) गठित कर निष्पक्ष जांच कराई जाए।

पृथला विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक एवं वरिष्ठ भाजपा नेता टेकचंद शर्मा ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि पंचायतों में हो रहे घोटालों की SIT से जांच कराई जाए, तभी इन घाेटालों में शामिल सफेदपोशों के नाम उजागर हो सकेंगे। उन्होंने कहा मुजेड़ी गांव के 70 लाख के घोटाले में तिगांव की BDPO पूजा शर्मा को सस्पेंड कर चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज होने, मुजेड़ी के नगर निगम में शामिल होने के बाद पंचायत के खाते से 20 करेाड़ रुपए निकालने की आशंका के बाद नए BDPO प्रदीप कुमार ने SDM को पत्र लिख उक्त गांव के ग्राम सचिव के खिलाफ सर्च वारंट जारी कराने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा ये गंभीर मामले हैं।

पंचायतों के घोटालों में सफेदपोश नेता शामिल

गुरुवार को पत्रकारवार्ता में पूर्व विधायक ने कहा एक अधिकारी अकेले इतना बड़ा घोटाला नहीं कर सकता। इसमें पर्दे के पीछे कुछ सफेदपोश नेता संलिप्त हैं। जो इस मामले को दबाने का काम कर रहे हैं। पूर्व विधायक ने कहा कि जहां तक घोटाले की बात है तो पहले पंचायतें सेल्फ फाइनेंसिंग होती थीं। जिन पंचायतों में पैसा पड़ा होता था, इसकी जानकारी विधायक तक कम पहुंचती थी। क्योंकि बीडीपीओ, डीडीपीओ, ग्राम सचिव और सरपंच मिलकर काम करते थे, लेकिन मनोहर सरकार में पंचायतों का आधुनिकीकरण कर दिया गया है। इससे एक-एक रुपए का हिसाब आसानी से लग जाता है।

घाेटाले का आरोपी पहना रहा विधायक को माला

उन्होंने कहा कितनी बड़ी विडंबना है कि उनके कार्यकाल मेें मंजूर हुए विकास कार्यों का उद्घाटन करने मौजूदा विधायक जब लदियापुर जाते हैं तो वहां वही शख्स उनका माला डालकर स्वागत करता है, जिसका नाम मुजेड़ी घोटाले की एफआईआर में दर्ज है। इससे यह स्पष्ट है कि ऐसे लोगों को राजनीतिक संरक्षण हासिल है। पूर्व विधायक ने कहा इस बारे में सीएम को अवगत कराया जाएगा।

सोतई घोटाले की जांच तीन साल में भी पूरी नहीं

उन्होंने सोतई गांव में हुए घोटाले का जिक्र करते हुए कहा कि इस गांव में भी 20-22 करोड़ का ऐसा ही घोटाला हुआ है। जहां एक काम की पेमेंट दो विभाग जनस्वास्थ्य विभाग व ग्राम पंचायत से हुई है। इसकी जांच भी लोकायुक्त, विजिलेंस तथा एसडीएम द्वारा की जा रही है। यह जांच तीन साल से कछुआ गति से चल रही है। इसकी जांच में तेजी लाई जाए। पूर्व विधायक ने सीएम से मांग की है कि इन घोटालों की जांच के लिए स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) गठित कर निष्पक्ष जांच कराई जाए। जिससे सफेदपोश लोगों की हिस्सेदारी उजागर होकर जनता के समक्ष उनका असली चेहरा आ सके।

खबरें और भी हैं…



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments