Sunday, April 18, 2021
Home देश समाचार जिंदा को गिनते नहीं, मृतकों की गिनती नहीं: सरकारी आंकड़ों में MP...

जिंदा को गिनते नहीं, मृतकों की गिनती नहीं: सरकारी आंकड़ों में MP में सिर्फ 27 मौतें, जबकि भोपाल में ही पहली बार 8 माह की बच्ची सहित 41 संक्रमितों का अंतिम संस्कार


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भोपालएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

भोपाल में पहली बार 41 कोरोना मरीजों का अंतिम संस्कार हुआ। गुरुवार को भदभदा विश्राम घाट पर 36 शव अंतिम संस्कार के लिए पहुंचे। इसमें कोरोना संक्रमित 31 शवों का प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया गया। 13 शव भोपाल के और 18 बाहर के थे। ये प्रदेश में एक दिन में किसी एक शहर में कोविड मरीजों के शवों के अंतिम संस्कार का सबसे बड़ा आंकड़ा है। हालात तो ऐसे हो गए कि पहली बार भदभदा विश्रामघाट पर कोरोना संक्रमितों के लिए तय की गई जगह छोटी पड़ गई और नई जगह तैयार करना पड़ी। भदभदा विश्राम घाट में कोरोना संक्रमित शवों के अंतिम संस्कार के लिए कुल 12 पिलर तय किए गए हैं। वहां गुरुवार को जब शव जलाने की जगह नहीं बची तो विद्युत शवदाह के ग्राउंड में नई जगह तैयार करनी पड़ी।

36 शवों के बाद भी विश्रामघाट में 8 परिवार शव लाने के लिए फोन कर रहे थे, जिन्हें रात हो जाने के कारण अगले दिन आने को समझाया गया। भदभदा विश्रामघाट के अध्यक्ष अरुण चौधरी के मुताबिक इतनी बड़ी संख्या में पहली बार अंतिम संस्कार किया गया है। वहीं सुभाष नगर विश्राम घाट में 5 का दाह संस्कार हुआ और झदा कब्रिस्तान में भी 5 संक्रमित शवों को दफनाया गया है।

सुभाष नगर विश्राम घाट के ट्रस्ट प्रबंधक शोभराज सुखवानी के मुताबिक वहां 5 संक्रमित मृतकों का दाह संस्कार किया, इसमें चार मृतक भोपाल के थे और एक होशंगाबाद का। वहीं झदा कब्रिस्तान में गुरुवार को पांच शवों को दफनाया गया है। इससे पहले भोपाल में कोरोना प्रोटोकॉल से एक दिन में हुए अंतिम संस्कार की संख्या पिछले साल दिसंबर में 28 पहुंची थी। वहीं इंदौर में 6 अप्रेल को 25 कोरोना मरीजों का अंतिम संस्कार हुआ था।

भोपाल में सबसे कम उम्र की कोरोना मरीज की मौत

आठ महीने की अदीबा गुरुवार को दुनिया से चल बसी। उसे कोरोना हुआ था। एम्स में 12 दिन संघर्ष के बाद अदीबा वायरस से हार गई। भोपाल में कोरोना से ये सबसे कम उम्र के मरीज की मौत है। झदा कब्रिस्तान में उसके अब्बा मासूम शरीर दफन करने पहुंचे। वो परिवार की इकलौती बच्ची थी। परिवार के मुताबिक उसे बुखार था और शरीर में झटके लग रहे थे, इसलिए 27 मार्च को एम्स ले गए। हैरानी ये कि घर में और कोई संक्रमित नहीं था।

खबरें और भी हैं…



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments