Monday, April 19, 2021
Home देश समाचार चार घंटे तक नारेबाजी: बधावड़ के ग्रामीणों ने प्रशासन को वाटर टैंकर...

चार घंटे तक नारेबाजी: बधावड़ के ग्रामीणों ने प्रशासन को वाटर टैंकर वापस लाैटाया, लघु सचिवालय पर किया प्रदर्शन


  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Villagers Of Badhavad Brought Back The Water Tanker To The Administration, Demonstrated At The Small Secretariat

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हिसार3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हिसार | बधावड़ के ग्रामीण वाटर टैंकर काे वापस लाैटाने के लिए लघुसचिवालय के बाहर पहुंचे। नारेबाजी करते हुए ग्रामीण। प्रदर्शन के दौरान जगह-जगह पुलिस तैनात रही। डीएसपी अभिमन्यु माैके पर माैजूद रहे।

  • बाेले-तभी करेंगे स्वीकार, जब तीनाें कृषि कानून रद्द किए जाए

बधावड़ के ग्रामीणाें और संयुक्त किसान माेर्चा के पदाधिकारियाें ने दिए गए वाटर टैंकर काे साेमवार काे एडीसी और तहसीलदार की माैजूदगी में प्रशासन काे वापस लाैटा दिया। किसानों ने लघु सचिवालय के बाहर 4 घंटे तक धरना दिया।

किसानों ने कहा कि तीनाें कृषि कानूनाें काे रद्द कर दाे, तुरंत ही डिप्टी सीएम की ओर से दिए टैंकर को ग्रामीण स्वीकार कर लेंगे। किसानों ने एडीसी काे भी ज्ञापन साैंपा। हंगामे की आशंका के मद्देनजर शहर में जगह-जगह भारी पुलिस फाेर्स तैनात रहा।

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार संयुक्त किसान माेर्चा के पदाधिकारी और सदस्य साेमवार सुबह दस बजे क्रांतिमान पार्क में एकत्रित हुए। बधावड़ से किसानों काे पानी का टैंकर वापस देने लघु सचिवालय पर आना था। किसान दाेपहर करीब 1 बजे आईजी चाैक पर टैंकर लेकर पहूंचे।

पुरुष-महिला किसान पैदल ही मार्च निकालते हुए लघु सचिवालय के बाहर पहुंचे और डीसी से मिलने अंदर जाने का प्रयास किया। मगर पुलिस ने किसानों काे अंदर नहीं जाने दिया। किसान लघु सचिवालय के गेट के बाहर धरने पर बैठ गए।

किसान नेता बोले- रोज एक गांव के ग्रामीण टैंकर लौटाने पहुंचेंगे

किसानाें का कहना था कि डिप्टी सीएम के कहने पर उन्हें पानी टैंकर दिया गया है। टैंकर पर डिप्टी सीएम का भी नाम लिखा था। किसानों ने कहा कि जब तक सरकार तीनाें कृषि कानूनाें काे रद्द नहीं कर देती, डिप्टी सीएम की ओर से दिए टैंकर काे स्वीकार नहीं किया जाएगा।

किसानों ने गिरफ्तार किए गए किसान नेता रवि आजाद काे भी छोड़ने की मांग की। सूचना पर बीडीपीओ भगवान दास पहुंचे और कहा कि प्रशासन की ओर से टैंकर भेजा गया था। ग्रामीणाें की बीडीपीओ से नाेकझाेंक हुई। संयुक्त किसान माेर्चा के जिला प्रधान शमशेर सिंह, सतबीर और सूबे सिंह बूरा ने कहा कि हर दिन एक गांव के ग्रामीण पानी टैंकर डीसी काे सुपुर्द करेंगे।

बीडीपीओ से किसान बाेले – गांव में जर्जर स्कूल काे सही कराएं, लाइब्रेरी बनवाएं

​​​​​​​लघु सचिवालय के बाहर धरने के दाैरान बीडीपीओ भी पहुंच गए थे। बीडीपीओ कह रहे थे कि उन्हाेंने प्रस्ताव बनाकर भेजा था। जिस पर ग्रामीणाें ने बीडीपीओ का विरोध करना शुरू कर दिया। ग्रामीणाें का कहना था कि जब वह टैंकर काे वापस देना चाहते हैं ताे बीडीपीओ काे क्या दिक्कत है। हालांकि बाद में समझाने पर ग्रामीण शांत हाे गए। ग्रामीणाें ने बीडीपीओ से गांव में जर्जर स्कूल काे ठीक करवाने और लाइब्रेरी बनवाने की मांग की।

बधावड़ और अन्य गांवाें में गर्मी के माैसम में पानी की समस्या न रहे, इसलिए मैंने प्रस्ताव बनाकर भेजा था। अब ग्रामीण विरोध कर रहे हैं। अधिकारियाें के निर्देश पर टैंकर काे वापस लिया गया है।” -भगवान दास, बीडीपीओ, हिसार।

खबरें और भी हैं…



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments