Tuesday, June 22, 2021
Home देश समाचार आइवरमेक्टीन पर WHO की दूसरी चेतावनी: WHO कोविड के इलाज में आइवरमेक्टीन...

आइवरमेक्टीन पर WHO की दूसरी चेतावनी: WHO कोविड के इलाज में आइवरमेक्टीन के इस्तेमाल के खिलाफ, गोवा में एक दिन पहले ही इसे मंजूरी मिली


  • Hindi News
  • National
  • WHO COVID 19 Treatment Guidelines; World Health Organization Warns On Use Of Ivermectin For Covid Patients

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली/जेनेवा7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

ब्रिटेन, इटली, स्पेन, जापान के एक्सपर्ट्स का दावा है कि आइवरमेक्टीन के इस्तेमाल से कोरोना मरीजों में रिकवरी की क्षमता बढ़ती है और मौत का खतरा कम होता है। (सिम्बोलिक फोटो)

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) ने कोविड मरीजों के इलाज के लिए आइवरमेक्टीन के इस्तेमाल पर चेतावनी दी है। स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि किसी नए लक्षण के लिए किसी दवा के इस्तेमाल के दौरान सुरक्षा और उसका प्रभाव बेहद महत्वपूर्ण होता है। WHO ने कहा कि वह क्लिनिकल ट्रायल के अलावा आइवरमेक्टीन के जनरल इस्तेमाल के खिलाफ है।

एक दिन पहले सोमवार को ही गोवा सरकार ने कोविड संक्रमण रोकने के लिए वयस्कों पर इस दवा के इस्तेमाल को मंजूरी दी है। WHO की चीफ साइंटिस्ट सौम्या स्वामीनाथन ने मंगलवार को आइवरमेक्टीन के इस्तेमाल को लेकर ट्वीट किया है। इससे पहले मार्च में WHO ने कहा था कि इस दवा से मौतें कम होने या अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत कम पड़ने के सबूत मिलने की संभावना काफी कम है।

जर्मन कंपनी ने भी दी थी चेतावनी
WHO से पहले जर्मन हेल्थकेयर और लाइफ साइंस कंपनी मेरेक ने भी इस दवा को लेकर चेतावनी दी थी। मेरेक ने कहा था- हमारे वैज्ञानिक आइवरमेक्टीन के प्रभाव के सभी तथ्यों और स्टडीज की जांच पड़ताल कर रहे हैं। अब तक इस दवा के कोरोना पर प्रभाव पड़ने के कोई वैज्ञानिक साक्ष्य नहीं मिले हैं। सबसे बड़ी चिंता की बात ये है कि ज्यादातर स्टडीज में सेफ्टी डाटा की कमी है।

गोवा सरकार ने दी इस्तेमाल को मंजूरी
10 मई को गोवा सरकार ने आइवरमेक्टीन के कोरोना संक्रमण में इलाज को मंजूरी दी है। गोवा के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने कहा कि कोरोना संक्रमितों को 5 दिन तक 12mg आइवरमेक्टीन दी जाएगी। ब्रिटेन, इटली, स्पेन और जापान में मरीजों पर इस दवा के इस्तेमाल से रिकवरी का समय घटा है, मौतों में कमी आई है। उन्होंने कहा कि ये कोविड इन्फेक्शन से रक्षा नहीं करती है, पर इस बीमारी की गंभीरता को कम करती है। इसका इस्तेमाल करने वाले सुरक्षा के झूठे भ्रम में न आएं, वो सभी गाइडलाइंस का पालन करें।

क्या है आइवरमेक्टीन?
आइवरमेक्टीन एक एंटी-पैरास्टिक दवा है, जिसे भारत में फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने मंजूरी दे रखी है। इसका इस्तेमाल एक तरह के संक्रमण के लिए किया जाता है। हालांकि इसके लिए डॉक्टर्स की सलाह जरूरी होती है।

कोरोना मरीजों पर कितनी कारगर
एक स्टडी के मुताबिक, आइवरमेक्टीन किसी भी व्यक्ति में कोरोना संक्रमण फैलने से बचा सकती है। अमेरिका में मई-जून में इसको लेकर एक स्टडी पब्लिश हुई थी, उसके बाद से कई वैज्ञानिकों ने इस दवा और कोरोना संक्रमण के कनेक्शन पर रिसर्च किया। इसे लेकर अब तक करीब ढाई हजार लोगों पर ट्रायल किया जा चुका है।

खबरें और भी हैं…



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments